Click here for Myspace Layouts

शनिवार, 28 जनवरी 2012

वह सुनयना थी........

वह सुनयना थी
कभी चोरी-चोरी मेरे कमरे मे आती
नटखट बदमाश
मेरी पेन्सिले़ उठा ले जाती
और दीवाल के पास बैठकर
अपनी नन्ही उगलियों से
भीती में चित्र बनाती
अनगिनत-अनसमझ,
कभी रोती कभी गाती
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
मुझे देख सकुचाई थी
नव-पल्लव सी अपार शोभा  लिये
पलक संपुटो में लाज को संजोये
सुहाग के वस्त्रों में सजी
उषा की पहली किरण की तरह
 कॉप रही थी
जाने से पहले मांगनें आयी थी ,वात्सल्य भरा प्यार
जो अभी तक मुझसे पा रही थी
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में

दबे पाँव
डरी सहमी सी
उस कबूतरी की तरह
जिसके कपोत को बहेलिये ने मार डाला था
संरक्षण विहीन
भयभीत मृगी के समान
मेरे आगोश में समां गयी थी
सर में पा ,मेरा ममतामईं हाथ
आँसुओं के शैलाब से
मेरा वक्षस्थल भिगा गयी थी
सफेद वस्त्रों में उसे देख ,मैं समझ गया था
अग्नि चिता में

वह अपना
सिंदूर लुटा आयी  थी
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
नहीं इस बार दरवाजे पर
दबे पाँव नहीं
कोई आहट नहीं
कोई आँसू नहीं
सफेद चादर से ढकी
मेरे ड्योढी में पडी थी
मैं आतंकित सा,काँपते  हाथों से
उसके सर से चादर हटाया था
चेहरे पे अंकित थे वे चिन्ह
जो उसने, वासना के
सडे-गले हाथो से पाया था
मैने देखा
उसकी आँखों में शिकायत नहीं,स्वीकृति थी
जैसे वह मौन पड़ी कह रही हो
हे पुरूष, तुम
हमें
माँ
बेटी
बहन
बीबी
विधवा
 और वेश्या बनाते हो
अबला नाम भी तेरा दिया हैं
शायद इसीलिए
अपने को समझ कर सबल
रात के अँधेरे में,रिश्तो को भूल कर
भूखे भेडिये की तरह
मेरे इस जिस्म को, नोच-नोच खाते हो
क्या कहाँ ,शिक़ायत और तुझसे
पगले, शायद तू भूलता है
मैने वासना पूर्ति की साधन ही नहीं
तेरी जननी भी  हूँ
और तेरी संतुष्ति,मेरी पूर्णता की निशानी हैं
मैं सहमा सा पीछे हट गया
उसकी
आँखों में बसे इस सच को,मैं नहीं सह सका
और वापस आ गया ,अपने कमरे में
शायद मैं फिर
करूँगा इंतजार
किसी सुनयना का
वह सुनयना  थी

विक्रम[पुन;;प्रकाशित]

31 टिप्‍पणियां:

  1. ये सार्थक प्रस्तुति बेहद पसंद आई!
    आपको बसंत पंचमी की भी शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कब निकलेगी नारी इस कड़वी सच्छाई का सीना तोड़ कर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुतगहन अभिव्यक्ति....मुझे बहुत पसंद आई आपकी कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मार्मिक प्रस्तुति...निशब्द कर दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही उत्कृष्ट रचना । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्त्री पीड़ा की भावनात्मक प्रस्तुति ! बहुत बढ़िया लेखनी !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पगले, शायद तू भूलता है
    मैने वासना पूर्ति की साधन ही नहीं
    तेरी जननी भी हूँ
    और तेरी संतुष्ति,मेरी पूर्णता की निशानी हैं

    गहरे भाव समेटे हुए बहुत अच्छी रचना,...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक मार्मिक विचारणीय रचना है आपकी | आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  11. हे पुरूष, तुम हमें
    माँ
    बेटी
    बहन
    बीबी
    विधवा
    और वेश्या बनाते हो.गहन अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहन गंभीर प्रगाढ़ अनुभूति की रचना .कृपया सैलाब कर लें शैलाब को .

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक अकाट्य सत्य को शब्दों में पिरो करके सुन्दर कविता का रूप दिया है आपने रचना सराहनीय एवं वंदनीय.....
    कृपया इसे भी पढ़े
    नेता,कुत्ता और वेश्या

    उत्तर देंहटाएं
  14. हे पुरूष, तुम हमें
    माँ
    बेटी
    बहन
    बीबी
    विधवा
    और वेश्या बनाते हो
    अबला नाम भी तेरा दिया हैं

    gajab ki abhivykti ....badhai vikram ji.

    उत्तर देंहटाएं
  15. aurat ka har rishta purush ke dwara hi sthaapit hota hai chaahe wo maa ho patni ya fir vidhwa ya fir koi aur rishta, rishte ko kalankit bhi purush hi karta hai. jivan ka sach bayan karti maarmik rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  16. 'तेरी जननी भी हूँ
    और तेरी संतुष्ति,मेरी पूर्णता की निशानी हैं'

    ...सब कुछ तो कह दिया,क्या रहा बाकी बचा अब ?

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह .. बहुत सुन्दर रचना,खूबसूरत प्रस्तुति

    आपका

    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    उत्तर देंहटाएं
  18. दिल से निकली बात जब कविता के सांचे में ढलती है तब उसका रूप ही अपनी कांति की सुरभि को चतुर्दिक फैला देता है । इससे वह कविता सुनने, लिखने और पढने में अच्छी लगती है । आपकी यह कविता भी भावों के बेहतरीन समायोजन के कारण मन को एक सुखद एहसास की अनुभूति से परिचित करा गई । बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अनुपम भाव संयोजन के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको महाशिवरात्रि की मंगलकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं