Click here for Myspace Layouts

बुधवार, 25 जनवरी 2017

जन गण मन अधिनायक

जन गण मन अधिनायक

गण का तंत्र, तंत्र के गण से
आहत मन पूछे जन-जन से

राष्ट्रगान में अस्तुति जिसकी,भला कौन वह लायक

जन गण मन अधिनायक

वह  शुभ नामे कब  जगता  है 
कब जन मन की वह सुनता है 

कब आशीष देता है सबको,बन महान सुखदायक

जन गण मन अधिनायक

पगड़ी छत्र चंवल बल्लम से
पश्चिम  के  गोरे  आदम   से

मुक्ति दिलाकर कहाँ गये सब,धीर वीर जननायक

जन गण मन अधिनायक

विक्रम

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें