Click here for Myspace Layouts

बुधवार, 17 मई 2017

जब वक्त था......

जब
वक्त था
तब
सब्र नही
जब
सब्र है
तो
वक्त नही
अजीब फंडा हैै
जिंदगी का
जब
चाह थी
तब
राह नही
जब
राह है
तो
चाह नही

विक्रम

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें