Click here for Myspace Layouts

बुधवार, 3 जून 2009

जब हम कुछ दिन बाद ............

जब हम कुछ दिन बाद मिले थे
मेरी प्रतीक्षा मे तुम रत थे
नयन तेरे कितने विह्वल थे

एक-दूजे को देख हमारे मन, मे कितने दीप जले थे
मै आया जब पास तुम्हारे
कम्पित तन-मन हुये हमारे
अपलक तक नयनो से मुझको ,तुमने कितने प्रश्न किये थे
क्षण भर का एकांत देख कर
वक्ष-स्थल से मेरे लग कर
तेरी उर धड़कन ने मुझसे जीवन के प्रति-क्षण मागे थे

विक्रम

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना है...बिलकुल मन को छू लेने वाली

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन को सुकून पहुंचाने वाली रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्देर रचना के लिये आभार्

    उत्तर देंहटाएं