Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 31 जुलाई 2009

आज चली कुछ ऎसी बातें.....

आज चली कुछ ऎसी बातें
बातों पर हैं जाएँ बातें

हँसती हुयी सुनी हैं बातें
बहकी हुयी सुनी हैं बातें
बच्चो की क्या प्यारी बातें
इनकी बातें ,उनकी बातें
होती हैं कुछ अपनी बातें
दिल को छू जाती हैं बातें
आसूँ में कुछ डूबी बातें
क्यूँ करते हो ज्यादा बातें

आज............................

होती बड़ी मृदुल कुछ बातें
कर्कश भी होतीं है बातें
प्रेम कराती हैं ,ये बातें
बातें बंद कराती बातें
सहनी पड़ती हैं कुछ बातें
सही नहीं जातीं कुछ बातें
उचे स्वर में होतीं बातें
चुपके-चुपके होतीं
बातें

आज...........................

नयनों में जब होतीं बातें
क्या समझोगे ऎसी बातें
हर भाषा में होतीं बातें
कुछ सच्ची कुछ झूठी बातें
हार की बातें जीत की बातें
गीत और संगीत की बातें
ज्ञान और विज्ञान की बातें
हर मौसम पर करते
बातें


आज............................

कभी वीरता की हों बातें
क्रोध भरी भी होतीं बातें
डींग हाकती हैं कुछ बातें
डरी और सहमी सी बातें
ध्रणा दर्द पर भी हों बातें
जन्म म्रत्यु पर होती बातें
बंद करो भी ऐसी बातें
अब न सुनी जाती ये बातें

आज.........................

स्वार्थ और परमार्थ की बातें
धनी और निर्धन की बातें
ताकतवर निर्बल की बातें
भूखे प्यासों की भी बातें
सुनने जाते हैं कुछ बातें
सुनकर न सुनते कुछ बातें
कुछ होतीं है ऐसी बातें
कह न कही सकते वे बातें

आज...............................

ममता मयी हैं माँ की बातें
शिक्षा देती गुरु की बातें
अच्छी और बुरी कुछ बातें
है गंभीर बहुत सी बातें
कभी कभी भरमाती बातें
है इतिहास बनाती बातें
युगों युगों तक चलती बातें
कुछ होतीं हैं ऎसी बातें

आज.............................

किसके दम पर इतनी बातें
इस पर भी हो जायें बातें
दिल की धड़कन से हैं बातें
सासों पर निर्भर हैं बातें
जब तक करती हैं ये बातें
तब तक है अपनी भी बातें
अभी बहुत अनकही हैं बातें
सोच समझ कर करना बातें

आज...............................

पुन: प्रकाशित
विक्रम

6 टिप्‍पणियां:

  1. बातें ...ये तेरी मेरी बातें ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी बहुत अनकही हैं बातें
    सोच समझ कर करना बातें
    सही है बाते तो सोच समझ कर ही करनी होगा
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपस की दिलचस्प बातें.... लाजवाब लिखा है.... मैंने भी एक ग़ज़ल लिखी है कभी पोस्ट करूँगा बातों पर.... आपकी रचना लाजवाब है

    उत्तर देंहटाएं