Click here for Myspace Layouts

सोमवार, 10 अगस्त 2009

स्वप्न से अनुराग कैसा .......

स्वप्न से अनुराग कैसा
कल्पनाओं का सफर है
भावनाओ का समर है
है क्षणिक उन्माद नयनों का,नही ये सत्य जैसा
स्वप्न से अनुराग कैसा
विषमताओं से भरा है
ह्रदय को इसने छला है
नीद के हाथो विनिर्मित ,गीत का यह भाव कैसा
स्वप्न से अनुराग कैसा
भाग्य कब इससे बना है
कर्म न इससे जनां है
है क्षणिक सी जिन्दगी में,स्वप्न तो मृदुहास जैसा
स्वप्न से अनुराग कैसा
vikram

8 टिप्‍पणियां:

  1. Swapn se nahee to kisse anuraag ho?

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http:/aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वप्न से अनुराग कैसा
    भाग्य कब इससे बना है
    कर्म न इससे जनां है
    है क्षणिक सी जिन्दगी में,स्वप्न तो मृदुहास जैसा
    स्वप्न से अनुराग कैसा

    नामुराद मन समझे तब न .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सही अभिव्यक्ति 'स्वप्न तो स्वप्न है उससे अनुराग कैसा'
    बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बहत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  5. विक्रम जी,

    स्वपन,
    शायद जीवन में आशा संचरण है उससे अनुराग, विराग कैसा

    बहुत ही अच्छा भाव भरा गीत, बिल्कुल क्लासिकला अंदाज में।

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  6. है क्षणिक सी जिन्दगी में,स्वप्न तो मृदुहास जैसा
    स्वप्न से अनुराग कैसा

    bahut hi sundar rachana ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. है क्षणिक सी जिन्दगी में,स्वप्न तो मृदुहास जैसा
    स्वप्न से अनुराग कैसा

    VIKRAM JI......EK BEHAD LAJAWAAB AUR SUNDAR GEET HAI AAPKI YE RACHNA....SACH MEIN JEEVAN TO EK LAMHA HI HAI..... FIR SWAPN SE ANIRAAG KYO KARTA HAI MANUSHY...

    उत्तर देंहटाएं
  8. गीत सी लय में बहती सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं