Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

आइये आसुओं से समुंदर रचे.....

उम्र क्या चीज हैं,रश्म क्या चीज हैं

आशिकी दो दिलो की बड़ी चीज हैं

आइये आसुओं से समुंदर रचें

इश्क में जो करें वो बड़ी चीज हैं

क्यूँ ऐ नजरे खफा मुझसे रहने लगीं

चुपके चुपके मेरी राह ताकने लगीं

आइये इक कशिश बनके दिल मे रहें

दर्दे दिल की तडफ भी बडी चीज हॆ

हम नजर जो हुये,हमसफर न हुये

सौदे दिल के किये फिर मुकर भी गये

राहे-उल्फत मे जिनके कदम न बढे

वो ये कहते हैं दिल भी अजब चीज हैं

अब ये वादे वफा के न रश्मी रहें

दिल यहाँ जो कहें हम वही अब करें

देखिये जिन्दगी ये जफा भी करे

उससे पहले संभलना बडी चीज हैं

विक्रम

7 टिप्‍पणियां:

  1. उम्र क्या चीज हैं,रश्म क्या चीज हैं
    आशिकी दो दिलो की बड़ी चीज हैं

    वाह बहुत खूब मन मोह लिया रचना ने आभार विक्रम जी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. राहे-उल्फत मे जिनके कदम न बढे
    वो ये कहते हैं दिल भी अजब चीज हैं
    सही कहा है जिसने तपन को भोगा नही वो अगन को क्या जाने

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्यूँ ऐ नजरे खफा मुझसे रहने लगीं

    चुपके चुपके मेरी राह ताकने लगीं

    आइये इक कशिश बनके दिल मे रहें

    दर्दे दिल की तडफ भी बडी चीज हॆ
    वाह अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल यहाँ जो कहें हम वही अब करें

    देखिये जिन्दगी ये जफा भी करे

    उससे पहले संभलना बडी चीज हैं
    Bahut hee sahee aur sachchi bat.
    Badhaee aapko

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखिये जिन्दगी ये जफा भी करे

    उससे पहले संभलना बडी चीज हैं
    shaandar .

    उत्तर देंहटाएं