Click here for Myspace Layouts

रविवार, 23 अगस्त 2009

सच नही कोई परिंदा, जाल मे फँस जायेगा ...

सच नही कोई परिंदा, जाल मे फँस जायेगा
कर हलाले-पाक उसको चाक कर खा जायेगा


रख जुबाँ फिर भी यहाँ तू , बे-जुबाँ हो जायेगा
देखकर शमसीर यदि तू , सच नहीं कह पायेगा

दिल्लगी में दिलकशी हो , दिल कहाँ फिर जायेगा
प्यार और नफरत में यारा , फर्क क्या रह जायेगा

प्यार अपने इम्तिहाँ के , दौर से बच जायेगा
वक़्त की तारीक मे , कैसे पढा वह जायेगा


vikram

5 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार अपने इम्तिहाँ के , दौर से बच जायेगा
    वक़्त की तारीक मे , कैसे पढा वह जायेगा
    आप जब कोई भी रचना को अपना भाव देते है तो वह बेहद सरस और खुबसूरत होते है .........बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया गज़ल है।बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रख जुबाँ फिर भी यहाँ तू , बे-जुबाँ हो जायेगा
    देखकर शमसीर यदि तू , सच नहीं कह पायेगा
    तल्ख स्वर की गज़ल
    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत, बहुत बधाई, इस शानदार रचना के लिए...........
    यह शेर बेहद पसंद आया.........

    रख जुबाँ फिर भी यहाँ तू , बे-जुबाँ हो जायेगा
    देखकर शमसीर यदि तू , सच नहीं कह पायेगा

    उत्तर देंहटाएं