Click here for Myspace Layouts

रविवार, 23 अगस्त 2009

आ कुछ दूर चलें,फिर सोचे.......

आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
अमराई की घनी छाँव में
नदी किनारे बधीं नाव में
बैठ निशा के इस दो पल में,बीते लम्हों की हम सोचें
आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
मन आंगन उपवन जैसा था
प्रणय स्वप्न से भरा हुआ था
तरुणाई के उन गीतों से,आ अपने तन मन को सीचें
आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
स्वप्नों की मादक मदिरा ले
मलय पवन से शीतलता ले
फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें
आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
विक्रम

15 टिप्‍पणियां:

  1. स्वप्नों की मादक मदिरा ले
    मलय पवन से शीतलता ले
    फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें
    सीधे साधे शब्दों में गहरे अर्थ छुपाये हुए गज़ब की रचना...बधाई...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वप्नों की मादक मदिरा ले
    मलय पवन से शीतलता ले
    फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें
    आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
    विक्रम
    बेहद खुब्सूरत रचना .........सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut khoobsurat ahsaso se bhari kavita.....tmaam umar kaha koee sath deta hai,magar thori dur sath chalo...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
    अमराई की घनी छाँव में
    नदी किनारे बधीं नाव में
    स्वप्नो को हवा देते है ये शब्द
    कितने मासूम खयाल है.
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर ख्यालों से भरी आपकी सुंदर रचना..
    बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये तो सही कहा की जीवन मरण के प्रश्न क्यूँ सोचें पर अतीत के बिना वर्तमान का अस्तित्व कहाँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. pukhraaj jii, मेरी कविता पर टिप्पणी के किये धन्यवाद "पर अतीत के बिना वर्तमान का अस्तित्व कहाँ ...."बिल्कुल सही कहा आपने.
    मॆने अपनी कविता मे अतीत को नकारा नही हॆ ,"फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें" के सम्बन्ध में इतना ही कहना चाहूगा कि गुजरे कल से आज हॆ ऒर आज से जुडा हॆ आने
    वाला कल,जीवन मरण प्रश्न को भुला कर बीते पल के साथ आज, व आने वाले कल को इस चिंता से मुक्त होकर जियें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'स्वप्नों की मादक मदिरा ले
    मलय पवन से शीतलता ले
    फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें'

    bahut sudar likha hai...aur aap ki di vyakhya bhi bahut khoob hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें
    स्वप्नों की मादक मदिरा ले
    मलय पवन से शीतलता ले
    फिर अतीत में आज मिला के,जीवन मरण प्रश्न क्यूँ सोचें
    आ कुछ दूर चलें,फिर सोचें


    bahut hi sundar lines .......


    badhaai

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनायास एक गीत याद आ गया ..किशोर दा का लिखा ,संगीत बद्ध किया , उन्हीँ का गया और उन्हीँ पे फिल्माया हुआ.....'आ चल के तुझे मै लेके चलूँ , इक ऐसे गगन के तले .."
    यहाँ हालात अलग हैं , एक प्रणय निवेदन है ...लेकिन प्यार का एहसास , चाहे किसी के लिए हो , कहीँ न कहीँ उसके अपनत्व में साम्य ज़रूर होता है !

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच है ..एक राह ,जिसपे चलना और मंजिल पाना वाक़ई कितना कठिन होता है ..!मंजिल तक पहुँच पानेवाले बेहद भाग्य शाली होते हैं ..वरना रिश्ते चंद क़दम चल, दम तोड़ देते हैं ..और पता चलता है ,कितने कमज़ोर थे !वक्त की आँधी उन दीयों को बुझा गयी ..!

    उत्तर देंहटाएं
  13. 'Aapkee rachname vilakshan aashawaad aur tapasya jhalaktee hai..!'
    Ye wakya, pahlee tippanee me pata nahee kyon avtarit nahee hua?

    उत्तर देंहटाएं