Click here for Myspace Layouts

शनिवार, 11 जुलाई 2009

जीवन जीना ही पडता हैं ............



जीवन जीना ही पड़ता हैं


छल गया कोई, अपना बन के


वह चला गया, सपना बन के


रिश्तो की भूल-भुलैया में, चल कर जीना ही पड़ता हैं


जीवन जीना ही पड़ता हैं


आशा के पंख ,लगा करके


कुछ हद तक सच, झुठला करके


गैरों पे मढ़ कर दोष यहाँ, ख़ुद को छलना भी पड़ता हैं


जीवन जीना ही पड़ता हैं


इस भरी दुपहरी से ,तप के


पल शांत निशा के, पा करके


तृष्णा से उपजे घावों को, सहला कर रोना पड़ता हैं

जीवन जीना ही पड़ता हैं

विक्रम

7 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन की सच्चाई यही है इसे तो जीना ही पडता है.
    बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. छल गया कोई, अपना बन के sundar kavita

    उत्तर देंहटाएं
  3. jeevan ke yatharth ko badi hi sundarta se aapne shabd diye hain....Bahut hi sundar rachna ke liye aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्यो जीना होता है ..........मुझे कई बार आहत करता है यह बात ............पर मै आखिर मे यही पाता हुँ कि जीना पड्ता ही है...........बहुत ही सही कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  5. विक्रम जी,

    आपके रचना संसार से आज वाकिफ़ हुआ। बड़ा ही सार्थक यथार्थ लिखा है जैसे कि कोई बाँटता हो अपना अनुभव आपके साथ ।

    प्रस्तुत गीत में मुझे निम्न पंक्तियों ने बहुत प्रभावित किया :-


    कुछ हद तक सच, झुठला करके
    गैरों पे मढ़ कर दोष यहाँ,
    ख़ुद को छलना भी पड़ता हैं
    जीवन जीना ही पड़ता हैं

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    आपके "कवितायन" पर आने का शुक्रिय।

    उत्तर देंहटाएं
  6. 'इस भरी दुपहरी से ,तप के

    पल शांत निशा के, पा करके ........'

    जीवन- दर्शन से रूबरू कराती सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सही फरमाया आपने...
    जीवन जीना ही पड़ता हैं

    उत्तर देंहटाएं