Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 11 सितंबर 2009

ओ मधुमास मेरे ..........

ओ मधुमास मेरे जीवन के

क्यूँ इतने सकुचे सकुचे हो
शिशिर गया फिर भी सहमे हो

कहा बसंती हवा रह गयी.क्या दिन आये नहीं फाग के

जीवन की इन कलिकाओं में
मेरे मन की आशाओं मे

कब पराग भर पावोगे तुम ,शिशिर-समीरण से बच करके

अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
खाली सब मधुकोष पड़े हैं

कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन के

विक्रम[पुन:प्रकाशित]

27 टिप्‍पणियां:

  1. अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
    खाली सब मधुकोष पड़े हैं

    कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन के
    ..आपकी एक और मधुमय रचना
    वैसे तो काव्य मे बसंत मे विरह-दग्ध हृदय के कई चित्रण मिलते हैं..मगर आपका यह वसंत को ही विरही बना देने का प्रयोग अनूठा है..बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
    खाली सब मधुकोष पड़े हैं
    WAAH ..........JABAAW NAHI HAI AAPKA.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विक्रम जी,

    आपकी रचनायें भाव-प्रधान होती हैं, और साहित्य के बिसरा दिये गये क्लासिकल अंदाज में शब्द संयोजन तो इतना सुन्दर कि ऐसा लगे कि कोई क्लासिक गीत पढ रहे हों।

    ऐसे ही प्यारे गीत रचते रहें।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  4. अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
    खाली सब मधुकोष पड़े हैं

    कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन

    bahut hi bhaavpradhaan rachna....... aise hi likhte rahiye......

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका शब्दकोष बहुत समृद्ध है...

    सुन्दर भाव !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर और भावमय प्रस्तुति है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बहुत बढ़िया ! बहुत ही ख़ूबसूरत और सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये लाजवाब रचना प्रशंग्सनीय है!
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर भावों के साथ सुंदर शब्द रचना प्रशंसनीय है । हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना उतने ही अच्छे भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. निहायत सुन्दर और भाव युक्त रचना.
    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. Vikramji ........ maine socha ki aapne kuch naya likha hoga....... lekin jab aaya to socha ki kuch likh ke hi jaun........

    Dhaynyawaad......

    उत्तर देंहटाएं
  12. ओ मधुमास मेरे जीवन के

    क्यूँ इतने सकुचे सकुचे हो
    शिशिर गया फिर भी सहमे हो

    कहा बसंती हवा रह गयी.क्या दिन आये नहीं फाग के
    ati sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  13. भई अभी तो शरद आयेगा फिर शिशिर फिर आयेगा मधुमास प्रतीक्षा करें ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. "अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
    खाली सब मधुकोष पड़े हैं
    कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन के"
    ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं...बहुत बहुत बधाई...
    मैनें अपने सभी ब्लागों जैसे ‘मेरी ग़ज़ल’,‘मेरे गीत’ और ‘रोमांटिक रचनाएं’ को एक ही ब्लाग "मेरी ग़ज़लें,मेरे गीत/प्रसन्नवदन चतुर्वेदी"में पिरो दिया है।
    आप का स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. 'कब पराग भर पावोगे तुम ,शिशिर-समीरण से बच करके'
    bahad sundar panktiyan.
    kavita achchee lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Kaun legaya chal kar muzase madhumay pal mere jeewan ke Bahut sunder. poori kawita bhee bahut sunder bhaw bheeni.

    उत्तर देंहटाएं
  17. Vikram ji............ aap kahan pe hain ajkal? bilkul bhi nazar bhi nahi aa rahe hain? tabiyat to thik hai na apki? aapki fikr lagi hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  18. कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन के...intzaar ke lamhe azeeb hote hai...madhu may pal chahe kam ho par hote bahut meethe..tmaam umar mitthas bani rahti hai....

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी रचनाओं के पठानोपरांत सदैव ही निशब्द रह जाना पड़ता है....सूझता ही नहीं कोई शब्द...क्या कहूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद,महफूज़ अली जी,कुछ कार्यबस लेखन कार्य से दूर रहा,आपको इस दॊरान मेरी फ्रिक लगी रही .आपके इस अपनेपन के लिये आपका आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अधर मेरे अतृप्त बडे हैं
    खाली सब मधुकोष पड़े हैं

    कौन ले गया छ्ल कर मुझसे मधु-मय पल जीवन

    wah kya baat kahi hai..bhaut sunder

    उत्तर देंहटाएं