Click here for Myspace Layouts

सोमवार, 30 अप्रैल 2012

रात के अन्धेरे में.......



रात के अन्धेरे में
मै
अपने दर्द को
हौले-हौले थपथपा के सहला के
सुलाने का प्रयास करता रहा
और तेरी यादें
किसी नटखट बच्चे की तरह
आ-आकर
न उसे सोने देती,न मुझे सुलाने देती
मै चिडचिडाता हूँ,बिगडता हूँ
पर सच तो यह है
मै
अपने आप को,यह समझा नहीं पाता हूं
कि मेरा दर्द और तेरी यादें
अलग-अलग नहीं एक है
तू नहीं तो क्या
मेरे पास
हमारे टूटे घरौदे के
कुछ अवशेष
अभी भी शेष हैं
vikram

17 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे पास
    हमारे टूटे घरौदे के
    कुछ अवशेष
    अभी भी शेष हैं,

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना के लिए बधाई,विक्रम जी,..

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो भी है,
    टूटा-फूटा
    वह अपना तो है !

    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मै
    अपने आप को,यह समझा नहीं पाता हूं
    कि मेरा दर्द और तेरी यादें
    अलग-अलग नहीं एक है
    तू नहीं तो क्या
    मेरे पास
    हमारे टूटे घरौदे के
    कुछ अवशेष
    अभी भी शेष हैं... गहरे भाव अकुलाये मन के

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. कि मेरा दर्द और तेरी यादें
    अलग-अलग नहीं एक है
    तभी तो ..

    हमारे टूटे घरौदे के
    कुछ अवशेष
    अभी भी शेष हैं

    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण खूबसूरत रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारे टूटे घरौदे के
    कुछ अवशेष
    अभी भी शेष हैं
    बहुत है इतना कुछ जीने के लिए, अभी भी कुछ तो शेष है... भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. शेष अशेष में उपजी भावपूर्ण रचना .

    साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही गहन भावपूर्ण रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  10. खूबसूरत रचना ...बहुत बढ़िया प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुरत ही भाव पूर्ण ... उनकी यादें और दर्द ... सिक्के के दो पहलू ही हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुछ अवशेष रह जाते हैं जो शेष दर्द की यादें दिलाते रहते हैं. भावुक रचना, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. कि मेरा दर्द और तेरी यादें
    अलग-अलग नहीं एक है
    तू नहीं तो क्या
    मेरे पास
    हमारे टूटे घरौदे के
    कुछ अवशेष
    अभी भी शेष हैं...

    आह ये दर्द ।

    उत्तर देंहटाएं