Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 14 अगस्त 2009

आजादी के लिये.......

आजादी के लिये मौत को,हँस कर जिनने झेला
याद दिलाने उनकी फिर से आई है ये बेला


आइये याद उनकी करें साथियों
इस वतन के लिये भी जिये साथियो

वे तो हिन्दू भी थे,ऒर मुसलामा भी थे
पारसी सिक्ख देखो ईसाई भी थे
पर सही बात ये है मेरे दोस्तो
सबसे पहले वतन के सिपाही वो थे
नाम से उनके रोशन जहाँ साथियो
इस................................................


ज्योति आजादी का लेके चलते जो थे
उनसे दुश्मन के सीने दहलते भी थे
राम के साथ अब्दुल भी फाँसी चढा
जो वतन पर मिटे भाई भाई ही थे

उनकी कुर्बानी पर फक्र है साथियो
इस.............................................


खो अंधेरों में जो रोशनी दे गये
खुद को करके फंना जिन्दगी दे गये
आज का दिन उन्ही का दिया साथियो
इस गुलिस्ताँ के हकदार माली वो थे

मरते -मरते भी कह कर गये साथियो
इस.................................................


थे कहाँ से चले हम कहाँ आ गये
भाई -भाई के दुश्मन है क्यूँ बन गये
अपना बन के यहां छल गया जो हमे
वो भी जयचंद और मीरजाफर ही थे

उनकी चालों से अब हम बचे साथियो
इस.............................................


स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें
विक्रम

18 टिप्‍पणियां:

  1. आजादी के लिये मौत को,हँस कर जिनने झेला
    याद दिलाने उनकी फिर से आई है ये बेला
    क्‍या खूब लिखा है !!
    आपको जन्‍माष्‍टमी और स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    जय हिन्द!!
    भारत मॉ की जय हो!!
    आई लव ईण्डियॉ


    आभार
    मुम्बई-टाईगर
    द फोटू गैलेरी
    महाप्रेम
    माई ब्लोग
    SELECTION & COLLECTION

    उत्तर देंहटाएं
  3. shukria.aapko bhi mubarak ho. aazadi ke liye.... . patriotic poem.

    उत्तर देंहटाएं
  4. खो अंधेरों में जो रोशनी दे गये
    खुद को करके फंना जिन्दगी दे गये
    शहीदो की सच्चाई यही है

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्‍वतंत्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  6. Rachna bahut achchi lagi.Par aap Gantantra divas ki shubkamnayen kyon de rahe hain?

    उत्तर देंहटाएं
  7. sandhyagupta jii
    धन्यवाद भूल की ओर ध्यान दिलाने के किये

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut bahut hi khubsurat hai ......aazadi ka yah git .............badhaaee

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब...
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ...जय हिंद !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज्योति आजादी का लेके चलते जो थे
    उनसे दुश्मन के सीने दहलते भी थे
    राम के साथ अब्दुल भी फाँसी चढा
    जो वतन पर मिटे भाई भाई ही थे
    Nice writeup !!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ...जय हिंद !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. खो अंधेरों में जो रोशनी दे गये
    खुद को करके फंना जिन्दगी दे गये
    आज का दिन उन्ही का दिया साथियो

    राष्ट्र प्रेम से भरपूर आपकी रचना
    सच मच आंदोलित करती है ...
    आपके जज्बे को सलाम कहता हूँ .
    स्वाधीनता दिवस की शुभकामनाओं के साथ
    ---मुफलिस---

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    उत्तर देंहटाएं
  13. भाई तुझे सलाम!
    इतनी बढ़िया रचना पर इससे बढ़िया सम्मान करने का तरीका मुझे समझ न आया.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह बहुत बढ़िया लिखा है आपने! स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  15. आजादी के लिये मौत को,हँस कर जिनने झेला
    याद दिलाने उनकी फिर से आई है ये बेला
    ज्योति आजादी का लेके चलते जो थे
    उनसे दुश्मन के सीने दहलते भी थे
    राम के साथ अब्दुल भी फाँसी चढा
    जो वतन पर मिटे भाई भाई ही थे.bahut hi sundar .man khush ho gaya .jai hind .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. स्वाधीनता दिवस की शुभकामनाओं के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  18. राम के साथ अब्दुल भी फाँसी चढा
    जो वतन पर मिटे भाई भाई ही थे

    बहुत खूब ....!!~

    उत्तर देंहटाएं